Indian rural News Agency
 

 

 

Home>News
MGNREGA;हर छमाही में होगा Social Audit
Tags: 'Mahatma GandhiNational Rural Employment Guarantee Act, 2005' ( MGNREGA), Ms Rakshita, Department Rural Devlopment Gov of India, Alok Ranjan APC
Publised on : 05 February 2014, Time: 09:42
News source: Indian Rural News Agency (IRNA)

Lucknow लखनऊ। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गांरटी योजना और इन्दिरा आवास योजना का सोशल हर छह माह में एक बार प्रत्येक ग्राम पंचायत में किया जाएगा। यह बात कृषि उत्पादन आयुक्त आलोक रंजन ने कही। उन्होंने कहा कि अभी कुछ चयनित ग्राम पंचायतों में ही सोशल आडिट कराया गया है। श्री रंजन सोशल आडिट की गुणवत्ता में अभिवृद्धि एवं संचेतना विषयक कार्यशाला में विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने समय से टीमों को रिकार्ड उपलब्ध कराने और प्रशिक्षण पर बल दिया।

कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए प्रमुख सचिव उद्यान सुश्री जूथिका पाटणकर ने कार्यदाई संस्थाओं द्वारा अभिलेखों को उपलब्ध कराने की अनिवार्यता पर प्रकाश डाला। श्री अरूण सिंघल, प्रमुख सचिव, ग्राम्य विकास विभाग ने अपने उद्बोधन में सोशल आडिट की गुणवत्ता के सम्बन्ध में कहा कि प्रकाश में आई अनियमिततों पर त्वरित कार्यवाही की जानी होगी किन्तु सोशल आडिट को नकारात्मक इमेज से बचना होगा। उन्होंने निदेशक सोशल आडिट से अपेक्षा की कि वे सोशल आडिट में जिन ग्राम पंचायतों के कार्यकलाप उच्च कोटि के पाए जाएं या सोशल आडिट में जिनका विशिष्ट योगदान हो उन्हें पुरस्कृृत करने की योजना भी बनाएं।

ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार की प्रतिनिधि सुश्री रक्षिता स्वामी ने जनसूचना प्रणाली के विकास एवं सूचनाओं के स्वतः दीवार पर लेखन आदि के माध्यम से उपलब्ध कराने पर बल दिया। उन्होंने एक समय सीमा के अन्दर परिवादों के समाधान की अपेक्षा की। सुश्री स्वामी ने बताया कि भारत सरकार सोशल आडिट के नियमों में वांछित संशोधन कर रही है और एक राष्ट्रीय रिसोर्स सेन्टर की स्थापना भी करने जा रही है। 

बैठक में प्रतिभागी अधिकारियों यथा- श्री मुथुकुमार स्वामी, प्रशासक, शारदा सहायक कमाण्ड परियोजना, संयुक्त निदेशक, एस0आई0आर0डी0, मण्डलीय संयुक्त आयुक्तों, जनपदों से आए मुख्य विकास अधिकारियों, जिला विकास अधिकारियों एवं खण्ड विकास अधिकारियों ने सोशल आडिट से सम्बन्धित समस्याओं एवं सुधार हेतु अपने बहुमूल्य सुझावों को प्रस्तुत किया।

कार्यशाला के अन्तिम चरण में श्री शंकर सिंह, निदेशक, सोशल आडिट, उ0प्र0, श्री रंजन कुमार, रोजगार गारण्टी आयुक्त, उ0प्र0, श्री राजवर्धन, सोशल आडिट विशेषज्ञ, श्री कृष्ण गोपाल, वित्त विशेषज्ञ ने कार्यशाला में उठाए गए विभिन्न बिन्दुओं पर प्रकाश डाला तथा शंका समाधान किया। प्रतिभागियों से अनुरोध किया गया कि वे नव-प्रकाशित वित्तीय संदर्शिका का अध्ययन कर सोशल आडिट के क्षेत्र में अपने बहुमूल्य सुझाव भेजें। श्री उमेश मणि त्रिपाठी, उपायुक्त, सोशल आडिट ने कार्यशाला का संचालन किया।